Famous Hindi Shayari of Dr. Kumar Vishwas Poetry शायरी Part-2

Famous Hindi Shayari of Dr. Kumar Vishwas Poetry शायरी,  Kumar Vishwas Hindi Poem For Girls Boys, Hindi, Hindi 2 Line Shayari For Love Sad And Heart touching Hindi shayari
Famous Hindi Shayari of Dr. Kumar Vishwas Poetry
Hindi poetry by Kumar Vishwas, 2 Line Sad Hurt Hindi SHayari


21
एक पहाडे सा मेरी उँगलियों पे ठहरा है
तेरी चुप्पी का सबब क्या है? इसे हल कर दे
ये फ़क़त लफ्ज़ हैं तो रोक दे रस्ता इन का
और अगर सच है तो फिर बात मुकम्मल कर दे
Ek pahaare sa meri ungaliyon pe tahara hai
Teri chuppi ka sabab kay hai ? ise hal kar de
Ye fakat lafz hai to rok de rasta in ka
Aur agar sach hai to phir baat muqmml kar de
*****
22
कोई कब तक महज सोचे,कोई कब तक महज गाए
ईलाही क्या ये मुमकिन है कि कुछ ऐसा भी हो जाऐ
मेरा मेहताब उसकी रात के आगोश मे पिघले
मैँ उसकी नीँद मेँ जागूँ वो मुझमे घुल के सो जाऐ
Koi kab tak mahaz soche, koi kab tak mahaz gaaye
Ilaahi kya ye mumkin hai ki kuchh aesa bhi ho jaaye
Mera mehtaab uski raat ke aagosh mein pighale
Main uski neend mein jaagoo.n wo mujhme ghul ke so jaaye
*****
23
तुम्हारे पास हूँ लेकिन जो दूरी है, समझता हूँ
तुम्हारे बिन मेरी हस्ती अधूरी है, समझता हूँ
तुम्हें मैं भूल जाऊँगा ये मुमकिन है नहीं लेकिन
तुम्हीं को भूलना सबसे जरूरी है, समझता हूँ
Tumhare paas hoo.n lekin jo duri hai, samjhta hoo.n
Tumhaare bin meri hasti adhoori hai, samjhta hoo.n
Tumhe.n main bhool jaaungaa ye mumkin hai nahi.n lekin
Tumhi ko bhoolna sabse jaroori samjhta hoo.n
*****
24
तुझ को गुरुर ए हुस्न है मुझ को सुरूर ए फ़न
दोनों को खुदपसंदगी की लत बुरी भी है
तुझ में छुपा के खुद को मैं रख दूँ मग़र मुझे
कुछ रख के भूल जाने की आदत बुरी भी है
Tujh ko guroor-e-husn hai mujh ko suroor-e-fan hai
Dono.n ko khudpasandgi ki lat buri bhii hai
Tujh mein chhupa ke khud ko main rakh doon magar mujhe
Kuchh rakh ke bhool jaane ki aadat buri bhi hai
*****
25
तुम्हारा ख़्वाब जैसे ग़म को अपनाने से डरता है
हमारी आखँ का आँसूं , ख़ुशी पाने से डरता है
अज़ब है लज़्ज़ते ग़म भी, जो मेरा दिल अभी कल तक़
तेरे जाने से डरता था वो अब आने से डरता है
Tumhara khwaab jaise gham ko apnaane se darta hai
Tumhari aankh ka aansoo.n khushi paane se darta hai
Ajab hai lazzate gham bhi, jo mera dil abhi kal tak
Tere jaane se darta tha wo ab aane se darta hai
*****
26
हर इक खोने में हर इक पाने में तेरी याद आती है
नमक आँखों में घुल जाने में तेरी याद आती है
तेरी अमृत भरी लहरों को क्या मालूम गंगा माँ
समंदर पार वीराने में तेरी याद आती है
Har ik khone mein har ik paane mein teri yaad aati hai
Namak aankho.n mein ghul jaane mein teri yaad aati hai
Teri amrat bhari laharo,n ko kya maaloom Gangan Maa
Samndar paar viraane mein teri yaad aati hai
*****
27
हमें मालूम है दो दिल जुदाई सह नहीं सकते
मगर रस्मे-वफ़ा ये है कि ये भी कह नहीं सकते
जरा कुछ देर तुम उन साहिलों कि चीख सुन भर लो
जो लहरों में तो डूबे हैं, मगर संग बह नहीं सकते
Hame maaloom hai do dil judaai sah nahi,n sakte
Magar rasme-wafa ye hai ki ye bhi kah nahi.n sakte
Zara kuchh der tum un saahillo.n ki cheekh sun bhar lo
Jo laharo.n mein to doobe hai, magar sang bah nahi.n sakte
*****
28
वो जो खुद में से कम निकलतें हैं
उनके ज़हनों में बम निकलतें हैं
आप में कौन-कौन रहता है ?
हम में तो सिर्फ हम निकलते हैं
Wo jo khud mein se kam nikalte.n hain
Unke zahno.n mein bam nikalte hain
Aap mein kaun kaun rahta hai ?
Hum mein to sirf hum nikalte hain
*****
29
अजब है कायदा दुनिया ए इश्क का मौला
फूल मुरझाये तब उस पर निखार आता है
अजीब बात है तबियत ख़राब है जब से
मुझ को तुम पे कुछ ज्यादा प्यार आता है
Ajab hai kaayda duniya-e-ishq ka Maula
Phool murjhaaye tab us par nikhaar aata hai
Ajeeb baat hai tabiyat khraab hai jab se
Mujh ko tum pe kuchh jyaada pyaar aata hai
*****
30
घर से निकला हूँ तो निकला है घर भी साथ मेरे
देखना ये है कि मंज़िल पे कौन पहुँचेगा ?
मेरी कश्ती में भँवर बाँध के दुनिया ख़ुश है
दुनिया देखेगी कि साहिल पे कौन पहुँचेगा
Ghar se nikala hoon to nikala hai ghar bhi saath mere
Dekhna ye hai ki manzil pe kaun pahunchega ?
Meri kashti mein bhawar baandh ke duniya khush hai
Duniya dekhegi ki saahil pe kaun pahunchega
31
सखियों संग रंगने की धमकी सुनकर क्या डर जाऊँगा?
तेरी गली में क्या होगा ये मालूम है पर आऊँगा,
भींग रही है काया सारी खजुराहो की मूरत सी,
इस दर्शन का और प्रदर्शन मत करना, मर जाऊँगा!
Sakhiyon santg rangne ki dhamki sunkar kya dar jaaunga?
Teri gali mein kya hoga ye maaloom hai par aaunga,
Bheeg rahi hai kaaya saari khajuraahon ki moorat si,
Is darshan ka aur pradarshan mat karna, mar Jaaunga.
*****
32
उम्मीदों का फटा पैरहन,
रोज़-रोज़ सिलना पड़ता है,
तुम से मिलने की कोशिश में,
किस-किस से मिलना पड़ता है….
Ummidon ka phata paiharan,
Roz-roz silna padata hai,
Tum se mile ki koshish mein,
Kis kis se milna padta hai……
*****
33
फ़लक पे भोर की दुल्हन यूँ सज के आई है,
ये दिन उगा है या सूरज के घर सगाई है,
अभी भी आते हैं आँसू मेरी कहानी में,
कलम में शुक्र-ए- खुदा है कि ‘रौशनाई’ है…..
Phalak pe bhor ki dulhan yoon saz ke aai hai,
Ye din ugaa hai ya sooraj ke ghar sagaai hai,
Abhi bhi aate hai aansoon meri kahani mein,
Kalam mein shukrae-khuda hai ki Raushnaai hai……
*****
34
घर से निकला हूँ तो निकला है घर भी साथ मेरे,
देखना ये है कि मंज़िल पे कौन पहुँचेगा ?
मेरी कश्ती में भँवर बाँध के दुनिया ख़ुश है,
दुनिया देखेगी कि साहिल पे कौन पहुँचेगा….
Ghar se nikala hoon to nikala hai ghar bhi saath mere
Dekhna ye hai ki manjil pe kaun pahunchega ?
Meri kashti mein bhawar baandh ke duniya khush hai,
Duniya dekhegi ki saahil pe kaun pahunchega…
*****
35
उसी की तरहा मुझे सारा ज़माना चाहे
वो मेरा होने से ज्यादा मुझे पाना चाहे
मेरी पलकों से फिसल जाता है चेहरा तेरा
ये मुसाफिर तो कोई ठिकाना चाहे
Usi ki taraha mujhe saara zamaana chaahe
Wo mera hone se jyaada mujhe paana chaahe
Meri palkon se fisal jaata hai chehara tera
Ye musafir to koi thikana chaahe
*****
36
हिम्मत ए रौशनी बढ़ जाती है,
हम चिरागों की इन हवाओं से,
कोई तो जा के बता दे उस को,
चैन बढता है बद्दुआओं से…
Himate-e-raushani badh jaati hai ,
Hum chiraagon ki in hawaaon se,
Koi to jaa ke bata de us ko,
Chain badhta hai badduaaon se …
*****
37
क़लम को खून में खुद के डुबोता हूँ तो हंगामा,
गिरेबां अपना आँसू में भिगोता हूँ तो हंगामा,
नहीं मुझ पर भी जो खुद की ख़बर वो है ज़माने पर,
मैं हँसता हूँ तो हंगामा, मैं रोता हूँ तो हंगामा…
Kalam ko khoon mein khud ke dubota hoon to hungama,
Gireban apna aansoon mein bhigota hoon to hungama,
Nahin mujh par bhi jo khud ki khabar wo hai zamaane par,
Main hansta hoon to hungama, main rota hoon to hungama
*****
38
तुम अमर राग-माला बनो तो सही,
एक पावन शिवाला बनो तो सही,
लोग पढ़ लेंगे तुम से सबक प्यार का,
प्रीत की पाठशाला बनो तो सही…
Tum amar raag-mala bano to sahi,
Ek paawan shiwala bano to sahi,
Log padh lenge tum se sabak pyaar ka,
Preet ki paathshaala bano to sahi….
*****
39
चंद चेहरे लगेंगे अपने से ,
खुद को पर बेक़रार मत करना ,
आख़िरश दिल्लगी लगी दिल पर?
हम न कहते थे प्यार मत करना…
Chand chehare lagenge apne se,
Khud ko bekaraar mat karna,
Aakhrish dillagi lagi dil par?
Hum na kahte the pyar mat karna…
*****
40
बदलने को तो इन आखोँ के मंज़र कम नहीं बदले ,
तुम्हारी याद के मौसम,हमारे ग़म नहीं बदले ,
तुम अगले जन्म में हम से मिलोगी,तब तो मानोगी ,
ज़माने और सदी की इस बदल में हम नहीं बदले…….
Badalne ko in aankhon ke manjar kam nahi badal,
Tumhaari yaad ke mausam, humare gham nahin badle,
Tum agale janm mein hum se milogi, tab to manogi,
Zamaane aur sadi ki is badal mein hum nahin badale…

No comments:

Powered by Blogger.